लड़कियों को बलात्कारियों की से बचाएगी ये ‘रेप प्रूफ पैंटी’, किसने बनाया है? जानकर रह जाएंगे दंग

देश में आए दिन रेप, गैंगरेप, यौन शोषण कि खबरे सामने आती रहती हैं। रेप के बढ़ते मामले महिलाओं के लिए आज सबसे बड़ी समस्या बन गई है। आपको शायद याद हो कि राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 की रात एक बेहद शर्मनाक घटना हुई थी, जब पांच दरिंदों ने निर्भया के साथ चलती बस में दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थी। निर्भया कांड को करीब पांच साल गुजर चुके हैं। लेकिन, देश में आज भी रोज ऐसी सैकड़ों निर्भया है जो दरिदों की दरिंदगी का शिकार बनती है।

महिलाओं के खिलाफ होने वाले रेप, गैंगरेप, यौन शोषण के मामले दिनो दिन बढ़ते ही जा रहे हैं। लेकिन, इसे रोकने के लिए फर्रुखाबाद की एक लड़की ने एक ऐसी पेंटी बनाई है, जो महिलाओं को रेप जैसी घटनाओं से बचा सकती है। इस लड़की ने वो काम कर के दिखाया है जिसे करने में हमारे नेता और पुलिस भी नाकाम रही है। 19 साल की लड़की का नाम सीनू है, जो इन दिनों सोशल मीडिया चर्चा का केन्द्र बनी हुई है। यह रेप प्रूफ पैंटी रेप जैसी घटनाओं को रोकने में काफी कारगर साबित होने वाली है।

यह पैंटी नई इलेक्ट्रॉनिक तकनीक से लैस है, जिसमें स्मार्टलॉक लगा है, जो केवल पासवर्ड से ही खुल सकता है। इसके अलावा सुरक्षा को और पुख्ता करने के लिए इसमें लोकेशन की सही जानकारी बताने हेतु जीपीआरएस सिस्टम भी लगा है। साथ ही यह पैंटी सबूत के तौर पर घटनास्थल की बातचीत रिकॉर्ड करने के लिए रिकॉर्डर से भी लैस है। यानि इस 19 साल की बच्ची ने इस पैंटी में वो सारी सुविधाएं दी हैं जिससे किसी महिला या लड़की की इज्जत की रक्षा की जा सके। केंद्रीय बाल एवं महिला विकास मंत्री मेनका गांधी ने भी सीनू की तारीफ करते हुए शुभकामनाएं दी है।

सीनू के मुताबिक, उसे ऐसी पैंटी बनने का आयडिया उस वक्त आया जब उसने एक दिन पांच साल की बच्ची से रेप और फिर गला घोंटकर उसकी हत्या की खबर पढ़ी। गौरतलब है कि साल 2016 के आंकड़ों के मुताबिक देश में औसत तौर पर हर घंटे महिलाओं पर 39 अपराध होते हैं। जिनमें से प्रत्येक घंटे 4 महिलाएं रेप या फिर गैंगरेप का शिकार बनती हैं। ऐसे में यूपी के मैनपुरी की बीएससी स्टूडेंट सीनू ने रेप प्रूफ पैंटी बनाकर एक सराहनीय कार्य किया है। यह पैंटी ऐसे कपड़े की बनी है, जिसे चाकू या किसी भी धारदार हथियार से न तो काटा जा सकता और न ही जलाया जा सकता है।

MANI