कभी भगवान के बाद इस आदमी से डरते थे बड़े-बड़े नेता, अब ऐसे ज़िन्दगी बिताने को हैं मजबूर

राजनीति में अगर किसी को थोड़ा बहुत भी पता हो तो उन्हें टीएन शेषन जी के बारे में पता होगा. जी हाँ वही टीएन शेषन जिनसे एक समय में देश के बड़े-बड़े नेता भी खौफ खाते थे. इनके बारे में ये भी बात काफी प्रचिलित थी कि एक समय में लोगों के अन्दर अगर खुदा के अलावा किसी का डर था तो वो थे टीएन शेषन जी, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज वो कहाँ और किस हालत में हैं? यकीनन ही नहीं जानते होंगे. आइये हम बताते हैं आज किस हाल में ज़िन्दगी गुज़र-बसर करने को मजबूर हैं टीएन शेषन जी.

source

अब आई एक खबर के मुताबिक एक समय में देश में चुनाव आयोग की हनक कायम करने वाले पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन आज बुढ़ापे में बेहद ही दुखभरा जीवन जीने को मजबूर हैं. टीएन शेषन जी के बारे में मिली एक खबर के अनुसार उम्र के इस पड़ाव में उनकी जिंदगी गुमनामी के अँधेरे में एक वृद्धाश्रम में कट रही है. टीएन शेषन को जानने वाले बताते हैं कि अपने समय में उन्होंने इस कदर आयोग का रुतबा कायम किया था कि 90 के दशक में एक मजाक सा चल गया था. जिसके अनुसार कहा जाता था कि, “भारत के नेता या तो खुदा से डरते हैं या फिर टीएन शेषन से.”

source

ऐसा क्यों कहा जाता था आइये आपको बताते हैं. बात है 1990 की जब 1955 में आईएएस टॉपर रहे टीएन शेषन ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला था. कहा जाता है कि उस वक़्त हालात बहुत ही ज्यादा ख़राब हुआ करते थे. चुनावों में बूथ कैप्चरिंग की वजह से बिहार बदनाम रहता था. उस समय टीएन शेषन जी ने अपने दम पर कठोर कदम उठाये थे. बताया जाता है कि बूथ कैप्चरिंग रोकने के लिए पहली बार उन्होंने देश में केंद्रीय सुरक्षा बलों की निगरानी में चुनाव कराया था.

source

सदमे के बाद हुए शॉट टर्म मेमोरी के शिकार

मीडिया में टीएन शेषन जी के बारे में काफी बातें चल रही है. इसी में एक खबर के अनुसार देश के होने वाले चुनावों में पारदर्शिता लाने वाले टीएन शेषन जी आज भूलने की बीमारी से ग्रस्त हो चुके हैं. इनकी हालत का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा लीजिये कि स्वस्थ महसूस करने पर कभी वो अपने घर आ जाते हैं तो कभी 50 किलोमीटर दूर ओल्ड एज होम में रहने के लिए चले जाते हैं.

Sujeeth Goud