आपको जानकर हैरानी होगी कि हनुमान जी अभी भी हैं ज़िंदा, इस जगह पर हमेशा दिखते हैं संकेत

भगवान  हनुमान के बारे में शायद ये बात कुछ लोग ही जानते होंगे कि भगवान राम ने उनको अमर होने के वरदान दिया है . बजरंगबली हमेशा के लिए जन्म मरण के चक्कर स मुक्त हो गये हैं. कह जाता है लंका में ऐसी जगह भी मौजूद हो जहां भगवान हनुमान के पैर के निशान तक पाये गये है.हनुमान तीन युगों में मौजूद थे.  कथाओं अनुसार  कहा जाता है कि 1600 के शुरुआती दिनों में भगवान हनुमान तुलसीदास के पास गए और उन्होंने उन्हें हिंदी रामायण लिखने के लिए प्रेरित किया।

बजरंगबली के बारे में कहा जाता है कि इस वक्त यह भारत के तमिलनाडु में रामेश्वरम जिले के पास  गांदममाणा पर्वत  पर निवास करते  हैं.जब भी कोई उनको सच्चे दिल स याद करता है तो वह अपने भक्तों की पुकार सुनने के लिए जरुर आते हैं.त्रेता युग में जब भगवान राम वापस अपने वेकुंड चले गये तो उन्होंने हनुमान को जंगल में रहने के लिए भेज दिया था, लेकिन इनके बारे में कहा जाता है कि हनुमान पहले दोबारा से  श्रीलंका के जंगलो में गये थे वहां लंका के लोगों ने उनकी खूब सेवा की थी जिसके बाद हनुमान ने उन सब से खुश होकर एक खास मंत्र दिया था यदि मेरे इस मंत्र को कोई भी जपेगा तो में उसी वक्त उसकी साहयता के लिए आ जाऊगा.

कहते है भगवान हनुमान ने उन सभी आदिसवासियों से यह वादा भी किया था कि मैं हर 41 सालों में अपने समुदाय के साथ रहने के लिए आऊंगा और अपनी भविष्य की पीढ़ियों को भी आत्मज्ञान ज्ञान दूँगा।एक   खोजकर्ता के अनुासार बताया जाता है कि श्रीलंका में अभी भी हनुमान की बहुत सी गतिविधियाँ पाई गई है.वहां का एक  समुदाय का मुखिया भी एक लॉगबुक बनाए रखता है जिसमें वे मिनट के मिनट के विवरण को नोट करते हैं हाल ही 2014 में भी हनुमान कीयात्रा का विवरण  इस लॉगबुक में दर्ज किया गया है।

इस लॉगबुक के बारे में कहा जाता है कि यह लॉगबुक   सेतु एशिया नामक एक आध्यात्मिक संगठन के कब्जे में है।सेतु मास्टर्स पीडोरु पर्वत की तलहटी में अपने आश्रम में इस लॉगबुक के बारे में लोगों को समझाते हैं.

भगवान हनुमान सभी तीन युगों में अस्तित्व में है। भगवान विश्वासियों के लिए है नास्तिक और अज्ञानी हमेशा सवाल उठाएंगे। लेकिन, यह हमारे सर्वोच्च देवता और मानव रूप में उसके अस्तित्व के बारे में है। भगवान समय से परे है … हमें बताएं कि आप क्या सोचते हैं

आपको जानकर हैरानी होगी कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति  ओबामा   भी भगवान हनुमान को बहुक मानते हैं वह हमेशा अपने साथ हनुमान की फोटो रखते है, साथ ही 2011 में विश्व कप जीतने के बाद, युवराज सिंह ने बताया कि वह हर सुबह हनुमान चालीसा को सुनते थे.बता दे कि बजरंग बाली, ब्रह्मचर्य भगवान भक्तों की मदद करते हैं और बुरा रास्ता निकालते हैं और सही रास्ता लेते हैं।

Sujeeth Goud